पुराने ज़माने में ही नहीं अभी भी अगर कोई कुछ सीखने निकलता है तो उसके लिए यात्राओं का बड़ा महत्व होता है | घर में बैठे बैठे कूप मंडूक तैयार होते हैं | तो ऐसे ही एक बार पुराने ज़माने में एक साधू जब अपने चेलों को सिखा रहे थे तो उन्हें लेकर पूरे जम्बुद्वीप की यात्रा पर निकले (पहले भारत को जम्बुद्वीप कहते थे) |

साधू महाराज और उनका दल गाँव गाँव में रुकता, धार्मिक चर्चाएँ होती, लोहे, लकड़ी, कपड़े इत्यादि की जो कारीगरी अलग अलग जगहों पर होती है वो भी छात्रों को दिखाते | अन्य इलाकों से जो चीज़ें वो लोग सीख कर आये थे वो भी गाँव वालों को बताते चलते | इस तरह साधू के दल और जिस गाँव में वो रुकते दोनों का फायदा होता था, सफ़र भी आगे चलता जाता था | किसी भी जगह से निकलते समय तक गाँव के लोगों से ऐसे सम्बन्ध बन चुके होते थे की सब लोग दूर तक छोड़ने आते | साधू सबको आशीर्वाद देकर वापिस विदा करते |

तो ऐसे ही एक गाँव के पास जब साधू और उनका दल रुका तो उन्होंने पाया की गाँव वाले तो बड़ी दुष्ट प्रवृति के हैं ! कैसे पड़ोसी का नुकसान कर दिया जाए इसी चक्कर में लगे रहते हैं | कोई खेत में आग लगाने की योजना बना रहा होता, तो कोई कूएँ में भांग डालने की सोचता रहता | नतीज़ा वही हुआ जो होना था, दरिद्रता फैली थी गाँव में | जब साधू वहां से चलने को हुए तो उन्होंने गाँव वालों को आशीर्वाद दिया, “भगवान् करे तुम सब एक साथ ऐसे ही सदियों तक रहते रहो, किसी को गाँव छोड़कर कहीं न जाना पड़े !”

एक दो दिन की यात्रा पर ही वो दुसरे गाँव में पहुंचे | वहां बिलकुल ही उल्टा हाल था, एक दुसरे की मदद करने के लिए गाँव वाले बिना पूछे ही तैयार रहते थे | अगर बारिश के भी असार लगे तो बाहर सूखते सिर्फ़ अपने कपड़े नहीं पड़ोसी के भी कपड़े समेट के अन्दर कर दिए जाते थे | लौकी, कटहल, जामुन, आम अगर एक के पेड़ में फल गए तो सारे पड़ोसियों को भी बाँट आता था | कोई दिक्कत ही नहीं होती थी किसी को ! कुछ दिन वहां रुक कर जब साधू चलने को हुए तो गाँव वालों को आशीर्वाद दिया, “भगवान् करे, आप सब दूर दूर तक फ़ैल जाएँ !” ऐसा आशीर्वाद सुनकर चेले बड़े हैरान हुए |

थोड़ी यात्रा में तो सब आपस में चर्चा करते रहे की क्यों साधू ने ऐसे उलटे आशीर्वाद दिए | जब कोई एक वजह तय नहीं कर पाए चेले तो उन्होंने एक दिन साधू से ही पुछा की ऐसा आशीर्वाद क्यों दिया | साधू ने बताया, जो दुष्ट प्रवृति वाले लोग थे, वो जहाँ भी जायेंगे अपनी गन्दी मानसिकता ही फैलायेंगे, इसलिए उन्हें एक ही जगह रोके रखना चाहिए | जो भले लोग थे वो जहाँ भी जायेंगे उनकी अच्छी आदतों से लोग सीखेंगे और बेहतर बनेंगे | इसलिए दुष्टों को वहीँ रहना चाहिए और अच्छे लोगों का गाँव उजड़ भी जाये तो देश का भला ही होगा !

अब भारत तो लोकतंत्र है न, सरकार भी यहाँ बहुमत से बनती है | साधुओं की ही नहीं हम जैसे मामूली लोगों के वोट भी असर कर जाते हैं | तो कुछ लोगों को दिल्ली से दूर जाने की इजाजत तो बिलकुल नहीं होनी चाहिए | दिल्ली में ही पैदा हुए इसी आस पास के इलाके में तुम और तुम्हारे दल का अंत भी हो तो पूरे देश का भला होगा | कुछ भले लोगों को दूर दूर जाने की दुआ दी जा सकती है | एक कोने के गुजरात से दूर दुसरे कोने के असम मणिपुर तक जा बसो | घर से दूर उत्तर प्रदेश में रहना पड़े | कभी छुट्टियों भर गुजरात जाने का मौका मिले फिर दूर दक्षिण तक भागना पड़े |

बाकि के भले लोगों के लिए हमारी दुआ है की आपकी उम्र कभी सालों में नहीं, किलोमीटर में बढ़े !!

SHARE
Previous articleकाफी कुछ सीखना बाकि है
Next articleकेन फोल्लेट: जैकडाव्ज
आनंद मार्केट रिसर्च में काम करते हैं, और शब्दों में रूचि रखते हैं। किताबों के अपने शौक में वो खूब सारी किताबें पढ़ते हैं। लोगों से बातचीत, समाजशास्त्र, पौराणिक कथाओं, इतिहास से वो अक्सर रोचक कहानियां ढूंढ लाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here