Home Views & Opinions

Views & Opinions

नैरेटिव बिल्डिंग : झूठ कैसे बनते हैं ?

नैरेटिव बिल्डिंग (Narrative Building) को हिंदी में आप कथानक गढ़ना कह सकते हैं, लेकिन भाव में बहुत फर्क आ जाता है। ये कुछ कुछ...

डॉ. सुभाष मुखर्जी याद हैं कॉमरेड ?

आलोचकों के हिसाब से “एक डॉक्टर की मौत” अच्छी फिल्म थी। अब जो आलोचकों के हिसाब से अच्छी थी वो तो जाहिर है आम...

हमारा पैर तो टांग और आपके पांव चरण !

स्कूल के बाहर खड़ी भीड़ बिलकुल खून की प्यासी हो रही थी। घबराये हुए स्कूल के प्रशासनिक अधिकारी और शिक्षक अन्दर बंद थे। मामला...

गौ हत्या का अर्थशास्त्र

पानी के जहाज पर एक log बुक रखते हैं जिसमे हर रोज़ entry होती है | किसने क्या किया, क्या गलती हुई, कैसे बर्ताव...
अरुंधती रॉय

रवैया : जो गैरजरूरी भी था, गैरजिम्मेदार भी

उनके पिता ब्रह्मसमाजी थे जिनसे उनकी मुलाकात व्यस्क होने के बाद ही हो पाई। कम्युनिस्ट शासित केरल के एक छोटे से गाँव आयेमेनम में...

बाढ़ राहत 1

हो सकता है आपने पायड पाइपर ऑफ़ हमेलिन की कहानी सुनी हो। सत्रहवीं शताब्दी के अंत की किन्ही जर्मन कथाओं में इस कहानी के...

दूर तक फ़ैल जाओ…

पुराने ज़माने में ही नहीं अभी भी अगर कोई कुछ सीखने निकलता है तो उसके लिए यात्राओं का बड़ा महत्व होता है | घर...

समंदर घर में घुस आया है

हाल में ही तैमूर नाम पर उठे विवाद की वजह से तैमूर लंग का नाम अब सबने सुन रखा है। तैमूर का भारत पर...
freedom-trash-can-bra-burning-1970

ब्रा बर्निंग

शब्दों के मतलब को धीमे-धीमे से बदल कर नैरेटिव बिल्ड करना देखना हो तो सबसे पहले Religion शब्द को देखिये। इसकी उत्पत्ति religare और...

तुम्हें याद हो कि ना याद हो ….

तुम्हें याद हो कि ना याद हो .... उस ट्रेन का नाम साबरमती एक्सप्रेस था... 27 फ़रवरी 2002 को ये ट्रेन जब 7:43 में गोधरा...

Most Read