Home Uncategorized

Uncategorized

बैरी तर के बात हम ता कहिये देबैय ना..

बैरी तर के बात हम ता कहिये देबैय ना..मैथिली का ये एक बड़ा पुराना किस्सा है | लोक कथाओं की श्रेणी के ये किस्से...

शेष तुम वहां से चिट्ठियां तो लिखोगे न ?

शेष तुम वहां से चिट्ठियां तो लिखोगे न ? चिट्ठियां ! कम ओन ईति, मैं सिर्फ पंद्रह दिन के लिए जा रहा हूँ |...

सांड को लाल कपड़ा नहीं दिखाना चाहिए

पिछड़ी जातियों में एक डोम नाम की जाति होती है | बिहार बंगाल में इनकी काफ़ी आबादी है | अगर कभी आपने बांस से...

दूसरा समुदाय

घर पे होने और सफ़र पे होने में बड़ा फ़र्क होता है | घर में महल बहुत safe सा होता है, आपको अपने आस...

अपनी दही को खट्टा कौन कहे

लक्ष्य फिल्म के आखरी दृश्य में जब हृतिक पीछे की सीधी चढ़ाई से ऊपर जा कर पाकिस्तानियों पर हमला करने जा रहा होता है...

दो गावों की कथा

पुराने ज़माने में ही नहीं अभी भी अगर कोई कुछ सीखने निकलता है तो उसके लिए यात्राओं का बड़ा महत्व होता है | घर...

डालो लाल हवेली में

पुराने ज़माने में बिहार UP में अपराधियों की तूती बोलती थी | एक से एक सूरमा हुआ करते थे बिहार के एक डाकू तुतली...

राजा तो नंगा है

स्कूल के ज़माने में किस्से हिंदी की किताब में भी होते थे और अंग्रेजी की किताब में भी | दोनों में लेकिन राजाओं के...

दुल्हन तो मेहँदी लगा कर जाएगी…

“नोज़ रिंग के डायमंड से iphone तक हर चीज़ पर एक्स रे चला दें इनका बस चले तो ! ऊपर से लगातार की बक...

दूर से एक फ़ोन कॉल

“आहा एक ही रिंग में उठा लिया ! जाग भी रहे थे और फोन भी पकड़े बैठे थे ?”“नहीं ईति, सो रहे थे फ़ोन...

Most Read