Home Uncategorized

Uncategorized

विक्रम-बेताल और प्रशासनिक सुधार

समय में परिवर्तन के साथ विक्रमादित्य #विकी हो गया था और बेताल #बेट्स (Baits)। कई प्रलोभनों से राजा विक्रमादित्य को लुभाने-फंसाने की कोशिश करते...

यलगार: जो हुई ही नहीं!

हाथों में पिचकारी लिए होली खेलते बच्चे उन्हें आतंकवादी लगते हैं और पेट पर बम बांधे स्वचालित हथियारों से लैस जेहादी मासूम भटके हुए...

तार हथियार

अपने आस पास मौजूद हथियारों की जानकारी होती तो क्या डॉक्टर नारंग की पत्नी उनकी मदद कर पाती ? आपको पता है अपने आस...

The Invisible Man

किताबों पर बीसियों पोस्ट डालते डालते मेरा ध्यान गया कि एक किताब The Invisible Man भी होती है। ये सी.बी.एस.सी. की बारहवीं क्लास में...

गुलाग

अगर हिटलर के कंसंट्रेशन कैंप जैसी जेलों के बारे में पढ़ना हो तो एक अच्छी किताब Gulag: A History, भी है | सोवियत रूस...

तुम बिलकुल मेरे जैसे हो

तुम बिलकुल मेरे जैसे हो, अब तक कहाँ छुपे थे भाई ? ************************* “मुझे एनीमेशन पसंद है, बचपन से कार्टून का शौक छूटा ही नहीं !” “अहो भाग्य...

चंपारण सत्याग्रह

जब डॉ. राजेन्द्र प्रसाद चंपारण सत्याग्रह पर किताब लिखने बैठे तो वो किताब ढाई सौ पन्ने की हो गई | ऐसे ज्ञानी लोगों को...
First Old Photograph of a mithila painting

मिथिला पेंटिंग

जब कई भाषाओँ की लोकोक्तियों में कहा जाता है की “जो होता है अच्छे के लिए होता है” तो ऐसे ही नहीं कहा जाता...

Surviving Riots

दिल्ली के आम चुनाव याद हैं ? फिर तो फ़्लैश म़ोब भी पता होगा, नहीं ? अचानक किसी भीड़ भाड़ वाले मेट्रो स्टेशन पर...

मंदिर क्यों पीछे रह जाते हैं ?

जब आपदाएं आती हैं तो सब लोग मदद के लिए आगे आते हैं | गुरूद्वारे से चंदा आ जाता है, चर्च फ़ौरन धर्म परिवर्तन...

Most Read