Home Litrary musings

Litrary musings

नैनागढ़ की लड़ाई ( बरात आगमन वर्णनोनाम प्रथम स्तरंग)

सवैया दीनसहायक नाम तुम्हार सुना बहु ग्रंथन में महाराज | है शबरी गजगीध अजामिल ते अजहुं जिहिकोयशछाजा || जो करणी सुमिरों इनकी तबहीं मन धैर्य्य लहै रघुराज...

तू छड के चली जाएगी, मैं दूजा ब्याह रचाऊंगा…

स्कूल कॉलेज का रीयूनियन अक्सर बड़ा मज़ेदार होता है | कई साल बाद जब पुराने साथ वालों से मुलाकात होती है तो सब बदल...

कुछ रिश्ते डूबे तो डूबे…

टेनिस के एक बड़े मशहूर खिलाड़ी थे आर्थर अशे | किसी ज़माने में ये दुनियाँ के सर्वोत्तम टेनिस खिलाड़ी माने जाते थे | विंबलडन...

आपकी असहमति

कभी ऐसी कोई फिल्म देखने गए हैं जो बेहद बकवास हो ? जिसका हीरो न पसंद आये, हीरोइन चुड़ैल लगे, डायरेक्टर गधा हो, एडिटर...

शेष तुम वहां से चिट्ठियां तो लिखोगे न ?

शेष तुम वहां से चिट्ठियां तो लिखोगे न ? चिट्ठियां ! कम ओन ईति, मैं सिर्फ पंद्रह दिन के लिए जा रहा हूँ |...

आप रूचि भोजन, पर रूचि श्रृंगार

शायद ही महाभारत किसी ने पूरा पढ़ा हो, और जब ऐसे लोग मज़ाक उड़ाते हैं ये कहकर की “जो आपके धर्म ग्रंथों में नहीं...

आपके बगैर फ्लैट घर कहाँ होता है ?

“तुम आज भी टाइम से नहीं पहुंचे थे न शेष ?” अचानक के ईति के सवाल ने ऑफ बैलेंस कर दिया | हफ्ते भर...

दुल्हन तो मेहँदी लगा कर जाएगी…

“नोज़ रिंग के डायमंड से iphone तक हर चीज़ पर एक्स रे चला दें इनका बस चले तो ! ऊपर से लगातार की बक...

दूर से एक फ़ोन कॉल

“आहा एक ही रिंग में उठा लिया ! जाग भी रहे थे और फोन भी पकड़े बैठे थे ?”“नहीं ईति, सो रहे थे फ़ोन...

किसान की बिटिया

कई साल पहले की बात है भारत के छोटे से गाँव में एक किसान था | किसानों की हालत आज भी अच्छी नहीं होती,...

Most Read