कंप्यूटर लगातार चलाने के शारीरिक नुकसान कई लोगों ने गिनाये होंगे | आखें कमज़ोर हो जाती हैं, रीढ़ की हड्डी पर असर पड़ता है जैसी कई व्याधियों के होने की खबर किसी न किसी अखबार में छपती रहती है | एक नुकसान और होता है जिसके बारे में कोई नहीं बताता | कंप्यूटर सॉफ्टवेर बहुत तेज़ी से पुराना हो जाता है, जबतक आप एक चलाना सीखेंगे उस से नया version market में आ जाता है | इसका नतीज़ा ये होता है की हम लोग सन 2000 की भी बात करें तो कहते हैं “पुराने ज़माने की बात है”, 1970 तो “बहुत पुराना जमाना हो जाता है | ऐसे ही एक बहुत पुराने ज़माने का किस्सा है, खरहे और शेर का |

खरहा कहते हैं ख़रगोश को, ऐसा शहरी वाला सफ़ेद जैसा नहीं होता वो कभी भूरा होता है कभी चितकबरा भी होता है | शायद कभी देखे हों आपने | तो हुआ यूँ की किसी जंगल में बहुत से खरहे रहते थे, जाहिर है जंगल में शेर भी था ही | लेकिन खरहों को शेर से कोई फ़र्क नहीं पड़ता था | ऐसे टुच्चे जानवरों का शिकार वो अपनी शान के खिलाफ़ मानता था | तो शेर कभी नील गाय कभी हिरण मारा करता था |

एक साल जंगल में बारिश बहुत कम हुई, तो घास सूखने लगी | हिरण और नील गाय जैसे
घास खाने वाले जानवर दूर दुसरे घास के मैदानों की तरफ चले गए | एक एक कर के जब झुण्ड ख़त्म हो गए तो शेर को परेशानी हो गई, अब खाए क्या ? खरहे लेकिन जंगल में ही थे | वो जड़ भी उखाड़ कर खा लेते थे इसलिए उन्हें सूखे से फ़र्क पड़ा नहीं था | अब शेर ने खरहों का शिकार शुरू कर दिया ! रोज़ पांच छः को मार के खा जाए |

खरहे बिचारे परेशान ! इस नयी मुसीबत से कैसे निपटें ? तो उन्होंने सभा बुलाई और बात चित शुरू की कि क्यों नहीं खुद ही चार पांच खरहे शेर के पास चले जाएँ, बाकि पर से तो डर हटेगा | अब एक खरहा वहां थोड़ा जवान टाइप था | गुलामी उसके खून में थी नहीं, शायद 1950 के बाद पैदा हुआ होगा | उसने कहा आप लोग फ़िक्र न करें मैं कल सुबह निपट लेता हूँ इस शेर से | बुड्ढे कैसे खडूस होते हैं आप तो जानते ही हैं, एक डांट पिलायी छुटके को ! अबे हमने क्या धूप में बाल सफ़ेद किये हैं ? बड़ा आया शेर से निपटने वाला ! ऐसे डायलॉग सुना कर भगा दिया सभा से बेचारे को |

रात भर में बैठक में कुछ फैसला हो नहीं पाया था, इतने में छुटका खरहा अंगड़ाई लेता पहुंचा | कुछ तय किया आप लोगों ने ? पूछ बैठा | जा तू ही निपट ले, हमारा सर और न खा, कहके बाकि बुड्ढे खरहों ने उसे भगा दिया | खरहा पहुंचा शेर की गुफ़ा पर और आवाज़ दी | शेर भौचक्का होता बाहर आया, खरहे ने कहा, मियाँ तुम दोनों तो मिल कर हमारी आबादी ही निपटा दोगे ! आपस में तय क्यों नहीं कर लेते की कौन कितने खरहे खायेगा ? शेर और चकराया ! बोला अबे पिद्दी, जानता नहीं जंगल में मैं एक ही शेर हूँ ? खरहे ने पुछा, अच्छा ! फिर वो कूएँ वाला कौन है ?

कूएँ वाला ? शेर गुस्साया, खरहे ने कहा, हाँ वही जिसकी लाल लाल आँखे हैं, डरावने आयल है, वो वाला ! शेर ने कहा मुझे भी दिखा कहाँ है वो कपटी जो मेरे जंगल में घुस आया है | खरहा एक गहरे कूएँ पर शेर को ले आया और कहा झाँक कर देख लो अन्दर ही होगा | शेर गुस्से से लाल पीला होता कूएँ में झाँकने लगा | अन्दर लाल आँखों और झबरे आयल वाली अपनी ही परछाई दिखी | शेर दहाड़ा, कुँए से भी गूंजती दहाड़ की आवाज़ आई | दो चार बार दहाड़ने के बाद शेर आपे से बाहर हो गया | उसने कुँए में छलांग लगा दी ! और जैसा की मेरी कहानी के अंत में होता है उसके बाद खरहे जंगल में ख़ुशी ख़ुशी रहने लगे |

मगर इस कहानी से याद आया की दिल्ली में तो हमारा हाल ही में पानीपत कर डाला था | दिल्ली जीत के आप शेर भी हो गए थे | हम भी खरहों की तरह बिल में दुबके रहते थे डर के मारे ! ऐसे में क्या जरुरत थी ? मेरा मतलब जरूरत क्या थी ज़ोरदार दहाड़ सुना के छलांग मारने की ?

ओंकारा में श्री लंगड़ा त्यागी जी कहते हैं “बेवक़ूफ़ और चू@#$ में धागे भर का फ़र्क होता है, और जो धागा हैंचो तो कौन है बेवक़ूफ़ और कौन चू@@# करोड़ टके का प्रश्न है भैया !” खुद को बेवक़ूफ़ और अपने भक्तो को पता नहीं क्या साबित कर डाला !!

SHARE
Previous articleसमंदर घर में घुस आया है
Next articleकाफी कुछ सीखना बाकि है

आनंद मार्केट रिसर्च में काम करते हैं, और शब्दों में रूचि रखते हैं। किताबों के अपने शौक में वो खूब सारी किताबें पढ़ते हैं। लोगों से बातचीत, समाजशास्त्र, पौराणिक कथाओं, इतिहास से वो अक्सर रोचक कहानियां ढूंढ लाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here